Wednesday, August 17, 2016

Andar se to kab ke

अंदर से तो कब के मर चुके है हम,,,

ये मौत तू वही आजा लोग साबुत मागते हैं ,..!!!

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment