Monday, August 22, 2016

Kis harah hum

किस तरह हम खुद को प्यार के क़ाबिल करें...
इधर हम आदतें बदलते हैं उधर तुम शर्तें बदल देती हो।।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment