Monday, August 22, 2016

Mude- Mude se hai

मुड़े-मुड़े से है मेरी ज़िन्दगी की किताब के कुछ पन्ने
कोई तो है जो मुझे मेरे बाद पढ़ता रहता है?

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment