Sunday, September 4, 2016

Mene kab kaha

मैंने कब कहा कीमत समझो तुम मेरी...
ग़र हमें बिकना ही होता तो आज यूँ तनहा न होते..!!!

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment