Sunday, October 2, 2016

Bahuy ajeeb hai ye

बहुत अजीव है ये बंदिशे  मुहब्बत की ,,,
कोई किसी को टूट कर चाहता है और कोई किसी को चाह कर टूट जाता है..!!!

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment