Monday, January 16, 2017

Subah hote hi tere sahar se jana hai mujhe

सुबह होते ही तेरे शहर से जाना है मुझे,
आज की रात ज़रा मुझे मना के सोना,

कोई ना सुनेगा मेरे बाद दुःख तुम्हारे,
मुझे अपना हर दुःख सुना के सोना,

शायद मेरे आँसू तेरे गम खरीद लें जाना,
आज मेरे आँसुओं की कीमत लगा के सोना.......

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment