Tuesday, May 23, 2017

ek sapna

सदियों से एक सपना है,

कहो पूरा करोगे तुम ..?

भूल जाओ मेरे सिवा सब कुछ ,

कहो ऐसा करोगे तुम..?

नहीं कुछ तमना अब,

एक बस  मेरे हो जाओ  तुम ,

कभी न छोर के जाओगे ,

कहो ऐसा करोगे तुम ..?

फ़क़त  एक लफ्ज़ सुनने को कई बरसों तरसी हु ,

मुझे अपना बना लो कहो ऐसा करोगे तुम ...?


0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment