Saturday, June 17, 2017

Naayaab शख्स

बहूत नायाब शख्स थे हम अपनी ज़िन्दगी में...!

ना जाने किसकी दुआ कबूल हुई और हम मोहब्बत कर बैठे....!

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment