Thursday, July 6, 2017

Dil to sabkuch sah kar bhi

दिल तो सबकुछ सह कर भी चुप रहा…
कमबख्त,
आँखो ने बयाँ कर दिया रात किस दर्द से गुजरी है...!!!

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment