Tuesday, July 4, 2017

Kuch nhi aaj

कुछ नहीं है आज मेरे शब्दों के गुलदस्ते में,
कभी कभी मेरी खामोशियाँ भी पढ लिया करो…!!!!

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment