Tuesday, October 10, 2017

jab koi

JAB KOI



"जब कोई कन्धा ना मिला मुझे मेरे रोने के लिये,
तो घर की दीवारों ने गले लगाया मुझे !!" 

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment